फुलेरा दूज एक शुभ और सर्वोच्च त्यौहार माना जाता है, जिसे उत्तर भारत में बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। यह त्यौहार भगवान श्रीकृष्ण को समर्पित है, यह माना जाता है की इस दिन भगवान श्री कृष्ण फूलों के साथ खेलते है और फुलेरा दूज (Phulera Dooj) की पूर्व संध्या पर होली के त्यौहार में भाग लेते है। यह त्यौहार लोगो के जीवन में खुशियाँ और उल्लास लाता है। इस पोस्ट अब हम जानते है की 2021 में फुलेरा दूज कब है (2021 mein Phulera Dooj Kab Hai) और इस दिन हमे क्या करना चाहिए।


2021 mein Phulera Dooj Kab Hai
2021 mein Phulera Dooj Kab Hai



2021 में फुलेरा दूज कब की है - 2021 mein Phulera Dooj Kab Hai

Phulera Dooj 2021 Date- फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया को फुलेरा दूज का त्यौहार मनाया जाता है और यह होली से कुछ दिन पहले मनाया जाता है। साल 2021 में फुलेरा दूज का त्यौहार 15 मार्च का है, जिस दिन सोमवार है।



यह भी पढ़े- 2021 में कब होगी होली और क्या है होली दहन का शुभ मुहूर्त 



इन दिन भगवान श्री कृष्ण के लिए विशेष भोग तैयार किया जाता है, जिसमे पोहा और अन्य विशेष व्यंजन शामिल होते है और भगवान श्रीकृष्ण का भोग लगाने के बाद इस भोग को भक्तो में वितरित किया जाता है।




फुलेरा दूज के दिन हमे क्या करना चाहिए - Phulera Dooj Par Kya Karna Chahiye

जैसा की हमने आपको बताया की यह त्यौहार भगवान श्री कृष्णा को समर्पित है और इस दिन हमे भगवान कृष्ण की पूजा करनी चाहिए। इस दिन जगह जगह उत्सव का आयोजन किया जाता है और मंदिरो को सजाया जाता है।


इस दिन सबसे महत्वपूर्ण जो अनुष्ठान किया जाता है, वह है भगवान श्री कृष्ण के साथ रंग बिरंगे फूलो से होली खेलने का। 


ब्रज में ब्रजवासी इस दिन भगवान श्रीकृष्ण के सम्मान में एक भव्य उत्सव रखते है और इस दिन को मानते है। 


भगवान श्री कृष्णा को सजाया जाता है और इन पर रंगीन कपडे का एक टुकड़ा लगाया जाता है, जिससे ये माना जाता है कृष्णा भगवान होली खेलने के लिए तैयार है। 



यह भी पढ़े- 2021 में देव उठानी एकादशी कब है और इस दिन का मुहूर्त का समय क्या है।  



शयन भोग की रस्म पूरी होने के बाद इस रंगीन कपडे को हटा दिया जाता है। 


कृष्ण भगवान को लगाए गए भोग में पोहा तथा अन्य भोग को शामिल किया जाता है और भगवान का भोग लगाने के बाद इन्हे भक्तो में वितरित किया जाता है। 


मंदिरो में कृष्ण लीला का आयोजन किया जाता है और भजन कीर्तन किया जाता है। 


आज के दिन कही कही गुलाल से भी होली खेली जाती है और भगवान को भी गुलाल लगाया जाता है। 




फुलेरा दूज का क्या महत्व है - Phulera Dooj Importance

Importance of Phulera Dooj- इस दिन किसी भी विशेष मुहूर्त को जानने के लिए, किसी पंडित जी परामर्श करने  आवश्यकता नहीं है। यह दिन बिना किसी मुहूर्त के भी विवाह, किसी संपत्ति की खरीद या फिर किसी नए और शुभ कार्य को करने के लिए बहुत ही शुभ माना जाता है। बहुत से लोग इस दिन अपना नया व्यवसाय शुरू करने के लिए भी तैयारी करते है।


2021 में होने वाले सभी त्योहारी की लिस्ट के लिए यहाँ क्लिक करें।


अन्य सभी त्योहारों, खबरों और अन्य अपडेट के लिए आप हमारे साथ टेलीग्राम चैनल से भी जुड़ सकते है।

Post a Comment

Please share our post with your friends for more learning and earning.

Previous Post Next Post