दीपावली का त्यौहार हिंदू धर्म का एक प्रमुख त्यौहार है। त्यौहार चाहे कोई भी हो ये सभी हमेशा समाज को जोड़ने, आपस में मतभेद मिटाने और मिलजुलकर रहने, सबके बीच अपनापन का भाव जाग्रत करने के काम आते है। दीपावली पर सभी लोग एक साथ मिलकर दीपक जलाते है, पूजा करते है, एक दूसरे के निवास स्थान पर मिलने जाते है और मिठाइयों से सबका मुँह मीठा कराते है। 


इस दिन सभी लोग अपने से बड़े लोगो का जैसे- माताजी, पिताजी, दादीजी, दादाजी एवम् सभी रिश्तेदारों से घर जाकर आशीर्वाद प्राप्त करते है। इसके साथ ही दीपावली का त्यौहार एक मुख्य उदाहरण है, बुराई पर अच्छाई की जीत हासिल करने का। चलिए अब जानते है दीपावली पर निबंध हिंदी में - Deepawali Par Nibandh Hindi Mein


Deepawali Par Nibandh Hindi Mein - दीपावली पर निबंध हिन्दी में
Deepawali Par Nibandh Hindi Mein - दीपावली पर निबंध हिन्दी में



दीपावली पर निबंध हिंदी में - Deepawali Par Nibandh Hindi Mein 

परिचय- दीपावली शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है। दीप+आवली = दीपावली। इसका मतलब है दीपकों की श्रृंखला। दीपावली का त्यौहार दो दिन मनाया जाता है। दीपावली का त्यौहार हर साल अक्टूबर या नवंबर के माह में आता है। इस दिन सूर्यास्त होने के बाद प्रत्येक घर में लक्ष्मी - गणेश जी का पूजन किया जाता है और दीप जलाकर घर में चारों तरफ रख दिया जाता है और पुरे घर को रोशन किया जाता है, पूरा घर रोशनी से जगमगा उठता है।



यह भी पढ़े- साल 2021 में कब है दिवाली और धनतेरस का त्यौहार यहाँ जाने 



दीपावली के त्यौहार से पहले धनतेरस का त्योहार आता है। जिस दिन बर्तन लेना या कुछ वस्तु खरीदना शुभ माना जाता है। जिससे बाज़ारो में बहुत ज्यादा बिक्री के साथ साथ बहुत भीड़ भी होती है।


इस दिन बच्चे हो या बड़े सभी पटाखे, जिसमे फूलजड़ी और भी विभिन्न प्रकार की आतिशबाज़ी  छोड़ते है। साथ ही साथ इस दिन नये कपडे को भी पहना जाता है और बहुत सी तरह की मिठाइयाँ बनाई व खायी जाती है।    




दीपावली क्यों मनाई जाती है - Deepawali Kyo Manai Jati Hain

दीपावली का त्यौहार भगवान श्री राम के 14 साल के वनवास के बाद अयोध्या वापिस लौटने की ख़ुशी में मनाया जाता है। इस 14 साल के वनवास के समय में लंका के राजा रावण ने माता सीता का अपरहण कर लिया था, जिसके बाद भगवान राम ने रावण के ऊपर विजय प्राप्त करके माता सीता को मुक्त कराया था और इसके बाद श्री राम अयोध्या वापिस लौटे थे। 


इस दिन सभी अयोध्या वासियों ने दीप जलाकर सम्पूर्ण अयोध्या को दीपों से सजा दिया था, पूरी अयोध्या जगमगाने लगी थी। जब से ही दीपावली का त्यौहार प्रत्येक वर्ष बनाया जाता है। दीपावली का त्यौहार एक तरह से अन्य त्यौहारों के साथ 5 दिन के लिए मनाया का बनाया जाता हैं। जिसके साथ धनतेरस, भाई दूज और गोवर्धन का त्यौहार शामिल है।



यह भी पढ़े- दिवाली के बाद होगा गोवर्धन का त्यौहार, यहाँ जाने कब है 2021 में 



दीपावली का त्यौहार कब मनाया जाता है - Deepawali Kab Manayi Jati Hai 

कार्तिक मास में प्रदोष अमावस्या के दिन प्रदोष काल होने पर दिवाली को मनाया जाता है और यदि दो दिन तक अमावस्या तिथि प्रदोष काल का स्पर्श नहीं करे तो दूसरे दिन दिवाली मनाने का विधान है। भारत में दिवाली इसी मत के अनुसार मनाई जाती है। 


वही एक मत ऐसा भी है जिसके अनुसार, अगर दो दिन तक अमावस्या तिथि प्रदोष कल में नहीं आती है तो दिवाली को पहले दिन मनाया जाता है।


यह भी पढ़े- 

Post a Comment

Please share our post with your friends for more learning and earning.

Previous Post Next Post