एकादशी के व्रत में भगवान विष्णु की पूजा और आराधना की जाती है। हर महीने में दो एकादशी व्रत होते है जिसमे एक शुक्ल पक्ष की एकादशी और दूसरी कृष्णा पक्ष की एकादशी होती है। लेकिन एक साल में कुल 25 एकादशी होती है, मतलब किसी एक महीने में 3 एकादशी होंगी।  इस पोस्ट में अब हम जानते है की आज कौन सी एकादशी है - Aaj Koun Si Ekadashi Hai Vrat 2021 




Aaj Kaun Si Ekadashi Hai 2021 - आज कौनसी एकादशी है
Aaj Kaun Si Ekadashi Hai 2021 - आज कौनसी एकादशी है




आज कौन सी एकादशी है 2021 - Aaj Koun si Ekadashi Vrat Hai 2021  

हर महीने की तरह जून महीने में भी दो एकादशी होंगी, जिसमे कृष्णा पक्ष में अपरा एकादशी का व्रत होगा और शुक्ल पक्ष में निर्जला एकादशी होगी। मई 2021 में एकादशी की तारीख कुछ इस प्रकार है-


Aaj Konsi Ekadashi Hai- जून 2021 में आज की एकादशी, कृष्णा पक्ष की एकादशी है, आज रविवार का दिन है। ज्येष्ठ मास में होने वाली अपरा एकादशी तिथि का प्रारंभ 05 जून, दिन शनिवार को सुबह 04 बजकर 07 मिनट पर हो रहा है। इस ​तिथि का समापन 6 जून को प्रात: 06 बजकर 19 मिनट पर होगा। एकादशी की उदया तिथि 06 जून को प्राप्त हो रही है, इसलिए अपरा एकादशी 2021 का व्रत 06 जून, रविवार को रखा जाएगा। इस दिन ही फलाहार करते हुए व्रत रहना है और भगवान विष्णु की पूजा करनी है।




आशा करते है की ऊपर से आपको पता चल गया होगा की आज कौन सी एकादशी है (Aaj Kaun Si Ekadashi Hai 2021) या फिर आज के एकादशी व्रत का क्या नाम है (Aaj ke Ekadashi Vrat Ka Kya Nam Hai) !





एकादशी का व्रत - Ekadashi ka Vrat

Ekadashi Vrat ka Mahatav- हिन्दू मान्यता में एकादशी को "हरि का दिन" कहा जाता है, यहाँ पर हरि भगवान विष्णु को माना जाता है क्योकि भगवान विष्णु ही जगत के पालनहार हैं। ऐसा कहा जाता है की एकादशी का व्रत हवन, यज्ञ, वैदिक कर्म कांड इत्यादि से भी अधिक फल देता है।  


एकादशी के व्रत के लिए यह भी कहा जाता है की इस व्रत को रखने से पूर्वज या पित्तरो को स्वर्ग की प्राप्ति होती है। एकादशी का व्रत सभी सुखो को देने वाला माना गया है, इस व्रत को करने से भगवान विष्णु की कृपा हमेशा बनी रहती है। 




अन्य जानकारी-




यह भी पढ़े- 

Post a Comment

Please share our post with your friends for more learning and earning.

Previous Post Next Post