हिन्दू धर्म में अक्षय तृतीया का दिन बहुत ही शुभ माना जाता है, इस दिन बहुत से शुभ कार्य किये जाते है। इस दिन को अबूझ मुहूर्त के रूप में देखा जाता है।  अगर किसी शुभ काम के लिए मुहूर्त नहीं निकलता है तो वह शुभ काम अबूझ मुहूर्त में अक्षय तृतीया के दिन किया जा सकता है। 


शास्त्रों के अनुसार, इस दिन भगवान परशुराम जी का जन्म हुआ था, इसके अलावा आज के दिन पितरों को तर्पण देना बहुत लाभदायक होता है। चलिए अब इन सबके बाद जानते है की अक्षय तृतीया 2023 में कब है (Akshaya Tritya 2023 Kab Hai) और इसका शुभ मुहूर्त (Akshaya Tritiya 2023 Shubh Muhurat) का समय क्या है। 


Akshaya Tritiya 2023 Kab Hai - अक्षय तृतीया 2023 कब है
Akshaya Tritiya 2023 Kab Hai - अक्षय तृतीया 2023 कब है


अक्षय तृतीया 2023 कब है - Akshaya Tritiya 2023 Kab Hai

हिन्दू पंचांग के अनुसार, वैशाख महीने के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाया जाता है। इस दिन दान और पुर्ण्य करना बहुत ही शुभ बताया गया है। अक्षय तृतीया के दिन विवाह, गृह प्रवेश और धार्मिक अनुष्ठान बताया गया है।



यह भी पढ़े - साल 2023 में होली का त्यौहार कब है और इसका शुभ मुहूर्त क्या है।



Akshaya Tritiya 2023 Mein Kab Hai - साल 2023 में अक्षय तृतीया 22 अप्रैल की है, जिस दिन शनिवार है। इस दिन पूजा का शुभ मुहूर्त सुबह 7  बजकर 49 मिनट से शुरू होकर दोपहर 12 बजकर 37 मिनट तक रहेगा। इस दिन शुभ कार्यो के अलावा सबसे ज्यादा सोना खरीदना शुभ माना जाता है।




अक्षय तृतीया 2023 का शुभ मुहूर्त - Akshaya Tritiya 2023 Ka Shubh Muhurat

Akshaya Tritiya 2023 Start and End Time - 22 अप्रैल 2023 को अक्षय तृतीया का आरम्भ (Start Time) सुबह को 7 बजकर 49 मिनट पर होगा। इसके बाद अक्षय तृतीया का समापन 23 अप्रैल 2023 को सुबह 7 बजकर 47 मिनट पर होगा। इस दिन पूजा का शुभ मुहूर्त सुबह 7 बजकर 49 मिनट से शुरू होकर दोपहर 12 बजकर 37 मिनट तक रहेगा।



जरूर पढ़े- साल 2023 में जन्माष्टमी कब की है और इसके लिए पूजा का शुभ मुहूर्त क्या है 



अक्षय तृतीया के दिन सोना खरीदने का शुभ मुहूर्त - Akshaya Tritiya 2023 Shubh Muhurat For Buying Gold

अगर आप इस अक्षय तृतीया के दिन सोना खरीदने की सोच रहे है तो आप इसे शुभ मुहूर्त में ही ख़रीदे तो ज्यादा बेहतर होगा। इसके लिए इस दिन का शुभ मुहूर्त 22 अप्रैल 2023 को सुबह 7 बजकर 49 मिनट से शुरू होकर 23 अप्रैल 2023 को सुबह 6  बजकर 16 मिनट तक रहेगा। 




अक्षय तृतीया 2023 पूजा विधि - Akshaya Tritiya 2023 Puja Vidhi in Hindi

अक्षय तृतीया के दिन देवी लक्ष्मी और भगवान विष्णु की पूजा की जाती है और साथ ही साथ इस दिन धन के देवता कुबेर की भी पूजा की जाती है। इस दिन तीनों देवी देवताओं को केला, नारियल, पान सुपारी, मिठाई और जल चढ़ाना चाहिए। कुछ देर भगवान के सामने हाथ जोड़े और उनसे अपनी गलतियों की माफ़ी माँगे। इसके अलावा इस दिन दान पुण्य करना भी बहुत ही शुभ माना जाता है। 



यह भी पढ़े- 2023 में रक्षा बंधन का त्यौहार कब है और इस दिन राखी का शुभ मुहूर्त क्या है। 



अक्षय तृतीया की पौराणिक कथा - Akshaya Tritiya Katha in Hindi

पौराणिका कथा के अनुसार, इस दिन सुदामा अपने बचपन के दोस्त श्री कृष्ण के द्वार अपने परिवार के लिए आर्थिक साहयता मांगने गए थे। सुदामा भेंट के रूप में श्री कृष्ण के लिए मुट्ठी भर पोहे लेकर गए थे। लेकिन सुदामा देने में संकोच कर रहे थे। लेकिन कृष्ण ने मुट्ठी भर पोहा लेकर खाया और अपने मित्र सुदामा का आदर सत्कार किया। कृष्ण का आदर सत्कार देखकर सुदामा बहुत प्रसन्न हुए और कृष्ण से आर्थिक सहायता के बारे में बिना कहे अपने घर की तरफ निकल पड़े। सुदामा अपने घर पहुंचकर दंग रह गए, उन्होंने देखा कि पुराने झोपड़े की जगह भव्य महल है और पत्नी और बच्चों ने नए वस्त्र और गहने पहने हैं। सुदामा समझ गए कि ये सब श्री कृष्ण का आशीर्वाद है। इसके बाद से ही अक्षय तृतीया के दिन को धन और सुख- समृद्धि के रूप में माना जाता है।



अन्य जानकारी- 


🎯 साल 2023 में आने वाले अन्य सभी त्यौहारों की जानकारी के लिए यहाँ देखें।


यह भी पढ़े- 

Post a Comment

Please share our post with your friends for more learning and earning.

Previous Post Next Post